सोमवार, 4 मई 2020

भय्यूजी महाराज! ‘‘एक विलक्षण व्यक्तित्व’’! ‘‘कुछ सुनहरी यादे’’।


29 अप्रेल को पू. भय्यूजी महाराज की जंयती के अवसर पर                                                                                           
‘नाथ सम्प्रदाय’’ के परम पूज्य, गुरुजी श्री उदय सिंह देशमुख जी जो पूरे देश में भय्यूजी महाराज के नाम से प्रख्यात थे, की जयंती (प्रकट दिवस) 29 अप्रैल को आ रही है। निश्चित रूप से ऐसे अवसर पर उनके साथ बिताए कुछ महत्वपूर्ण अनुभव व सुनहरी यादें का दिलों दिमाग और आंखों में तरोताजा हो जाना स्वभाविक ही है।
मुझे याद आता है, मेरी उनसे पहली मुलाकात मेरे पारिवारिक पत्रकार मित्र श्री अनूप दुबौलिया ने 11 वर्ष पूर्व इंदौर में करवाई थी। पहली ही मुलाकात में उनके चेहरे के तेज और आंखों के आकर्षण ने मुझे उनकी ओर आकर्षित कर दिया था। यद्यपि इसके पूर्व मैं कई आध्यात्मिक गुरुओं, संतो, महंतो, महाराजाओं, पंडितों, कथा प्रवचकांे व धार्मिक प्रकांड ज्ञाताओं से मिलता रहा हूं। जीवन के क्रम मे सार्वजनिक, धार्मिक सामाजिक एवं राजनैतिक कार्यकमो में भागीदारी के साथ-साथ श्री रुक्मणी बालाजी मंदिर बालाजीपुरम् के प्राण प्रतिष्ठिा कार्यक्रम (जिसका में संयोजक था, जिसमे लाखांे लोगों ने भागीदारी की थी) के दौरान, चारों पीठों के शंकराचार्य गण जी, गायत्री आंदोलन के डॉ प्रणव पंड्या जी, पूज्य प. अवधेशानंद जी महाराज, पूज्य डॉ. रावतपुरा सरकार, अर्जुनपुरी जी महाराज, रासलीला मर्मज्ञ बड़े ठाकुरजी, साध्वी ़ऋतम्भरा सहित अनेक संतों विद्यमानों के सानिध्य व संपर्क में रहने के सुअवसर मिले। लेकिन मुझे यह कहने में कतई संकोच नहीं है कि, पहली बार मुझे अंदर से यदि किसी आध्यात्मिक संत ने खींचा और आकर्षित किया व अंदर तक प्रेरित किया तो वे भय्यूजी महाराज ही थे। आध्यात्मिक, प्रवचन, संवाद, चर्चा व सम्पर्क के दौरान मुझे कई बार यह यह बतलाया गया था कि बिना गुरु के व्यक्ति का जीवन अधूरा है, क्योंकि मेरा कोई गुरू नहीं था। स्पष्ट रूप से मैं यदि यह स्वीकार करूं कि, भय्यूजी महाराज से मिलने के पूर्व तक अनेकानेक संतो के संपर्क में आने के बावजूद भी, मेरे आंतरिक मन को किसी को भी गुरु के रूप में स्वीकार करने की प्रेरणा नहीं मिली, थी, तो गलत नहीं होगा। भैय्यूजी महाराज से मिलने के बाद और लगातार उनके जीवंत संपर्क में रहने से कुछ ऐसा महसूस होने लगा था कि यदि मुझे अपने जीवन में पूर्णता प्रदान करने के लिए किसी को गुरू बनाना ही है, तब इस इस कसौटी में मैंने भय्यूजी महाराज को ही अपने सबसे निकटतम पाया। उनका मुझ पर इतना आशीर्वाद व प्रेम था कि उन्होंने मुझे अपने ट्रस्ट में एक ट्रस्टी भी नियुक्त किया था।
आध्यात्मिक और सामाजिक क्षेत्र के श्रेष्ठतम गुरुओं को और संतों व श्रेष्ठियों को सुना है और उनसे चर्चा भी होती रही है। लेकिन मुझे इन सब से अलग भय्यूजी महाराज लगे, वह इसलिए कि उनकी संदेशों में, प्रवचनों में, बातों में आध्यात्मिक तत्व लिये हुए सामाजिक संदेश हमेशा रहता था। आध्यात्मिक गुरु सिर्फ आध्यात्म के बारे में बताते हैं, और सामाजिक श्रेष्ठि सामाजिक दृष्टिकोण से अपनी बात रखते हैं। यद्यपि उक्त दोनों तत्व समाज की सेवा ही करते हैं, लेकिन इन दोनों गूढ़ तत्वों का सर्वश्रेष्ठ संयोजन मैंने भय्यूजी महाराज में ही पाया। उनके व्यक्तित्व में इतना तेज, आंखों में सम्मोहन लिए हुए आकर्षण ऐसा था, जो व्यक्ति को अपने आप ही उनके नजदीक खींच ले जाता था। यह तभी संभव होता है, जब एक संत का निश्छल व्यक्तित्व होता है। इसी आर्कषण के कारण मैं उनकी ओर खिंचता चला गया।
  उनकी सबसे बड़ी खूबी जो मैंने पाई कि वे मठाधीश समान कोई संत नहीं थ,े जिनका बहुत बड़ा लंबा चौड़ा आश्रम हो। उनका कहना था ‘‘प्रत्येक घर एक आश्रम है‘‘। वे स्वयं के सम्मान के लिये एक माला (हार) की बजाए, एक पेड़ लगाकर उसे पूजने के लिये कहते थे। उन्होंने अपने मुख से कभी भी कोई दान की बात नहीं की। उनके शिष्य खासकर महाराष्ट्र व गुजरात से आने वाले, बिना मांगे लाखों रुपया सहायता राशि के रूप में दे जाते थे। एैसे सहयोग से सरकारों के साथ मिलकर संयुक्त योजना के रूप में (पी.पी.माड्ल़ द्वारा) वे विकास कार्य सम्पन्न करवाते थे।
  विभिन्न सामाजिक सामूहिक उत्तरदायित्व को भी वे बखूबी निभाते थे। हजारों लोगों की शिक्षा, प्रौढ़शिक्षा, कन्या विवाह, बेटी बचाओं, हरित क्रांति पारधियों का व्यस्थापन, राष्ट्र के प्रति प्रेम, सम्मान व उत्तरदायित्व की भावना का प्रसार आदि आदि कार्यो का उन्होनें जिम्मा उठाया। इन सामाजिक व विकास कार्यो के बेहतरीन ढं़ग सेे पारर्दषिता के साथ क्रियान्वन के लिये उन्होंने सदगुरू धार्मिक एवं परमार्थिक ट्रस्ट की स्थापना की थी। ट्रस्ट के अधीन 23 विभाग थे एवं लगभग 80 योजनाएँ चलती है। शायद इसीलिए ही वे आध्यात्मिक कम राजनीतिक,सामाजिक संत ज्यादा माने जाते थे। पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, संघ प्रमुख मोहन भागवत, बाल ठाकरे, लता मंगेश्कर व अन्ना हजारे से लेकर देश के प्रमुख राजनीतिक नेताओं चाहे वह किसी भी राजनैतिक विचारधारा के ही हो, प्रसिद्ध सामाजिक व्यक्तियों कलाकारांे (वे स्वयं भी कलाकार रहे व माड़ल का भी कार्य किया) इत्यादि विभिन्न क्षेत्रों में कार्य काने वाले प्रभावशाली सम्मानीय व्यक्तियों के साथ उनके आत्मीय घनिष्ठ संबंध थे। इन्ही संबंध के रहते वे जनहित में अनेक कार्य, योजनाएँं और सुझाव उन नेताओं को देते थे, जिनके निष्पादित होने पर क्षेत्रीय जनता विकास की ओर अग्रेसित होती थी। इस प्रकार इन आत्मीय संबंधों का उपयोग उन्होंने सैदव सिर्फ सामाजिक न्याय के लिये ही किया। सामाजिक सुधार के वे एक अग्रदूत थे। प्रबुद्ध शिक्षित बुद्धिजीवी वर्गों के बीच उनकी लोकप्रियता शायद इसी कारण से थी। उनको राष्ट्रीय प्रसिद्धि तब मिली, जब उनके द्वारा एक वर्ष पहिले ही, प्रतिभा पाटिल के राष्ट्रपति बनने की घोषणा कर दी थी, जो बाद में साकार होकर सत्य सिद्व हुई। महाराष्ट्र की राजनीति में उनका गहरा प्रभाव था।
एक बात और जो भैय्यूजी महाराज को अन्य आध्यात्मिक गुरूओं से थोड़ा अलग करती है वह भैय्यूजी महाराज का व्यवहारिक दृष्टिकोण (एर्प्रोच)। आध्यात्मिक गुरूओं के समान प्रकांड ज्ञान के ज्ञाता होने के बावजूद भैय्यूजी महाराज इस अर्थ में अन्य प्रकांड, ज्ञानी गुरूओं से  अलग थे कि, वे अपने अपार ज्ञान के भंडार से उतना ही व्यवहारिक ज्ञान श्रोताओं को देते थे जिन्हें वे श्रोता गण अपने दिमाग मैं स्टोर न कर उसे बाहर निकाल कर व्यवहार रूप में अपने जीवन में लागू कर कार्य रूप में परिणित कर सकें। शायद इसीलिए गुरूजी व्यवहारिक गुरू ज्यादा माने जाते थे, जिसका फायदा अंततः समाज को ही मिलता था। क्योंकि यह बात स्पष्ट है कि ज्ञान का भंडार तो असीमित हो सकता है, लेकिन यदि उसका धरातल में उपयोग नहीं हो पा रहा है तो, वह ज्ञान कोई काम का नहीं हैं। गुरूजी, लोगों की स्वभाविक व्यवहारिक धरातल पर उतारने व काम करने की कठिनाई को जानते थे। कार्यषैली की यह विषेषता ही भैय्यूजी महाराज को उनके समकक्ष विद्वान, ज्ञानी आघ्यात्मिक व सामाजिक श्रेष्ठीयांे के बीच एक अलग विषिष्ट स्थान बनाती है।
  पीछे मुड़कर पू. गुरूजी के पृथ्वी से अपने शरीर को अचानक छोड़कर जाने के दुखद क्षण का याद आना भी स्वाभाविक ही है। मुझे याद आता है, उनके स्वर्गवासी होने के लगभग 3 महीने पूर्व बैतूल में होने वाली मेरी किताब के विमोचन कार्यक्रम के लिए मैं उनसे मिला था और मैंने उनसे विमोचन कार्यक्रम मैं आने के लिए अनुरोध किया था, जिसे  उन्होंने स्वीकार किया था। इसमें तत्कालीन केंद्रीय मंत्री सुश्री उमा श्री भारती एवं डॉ. वेद प्रताप वैदिक भी आए थे। मुझे अभी भी वे क्षण याद है, जब उन्होंनेे गमछा बुलाकर मेरे गले में डाल कर सम्मानित कर मुझे अभीभूत कर दिया था।
उनके द्वारा स्वयं की जीवन लीला समाप्त करने पर कई प्रश्न उठे। लेकिन मैं मानता हूं उनका ‘‘व्यक्तित्व’’ व्यक्तिगत जीवन से कई गुना ऊँचा उठा हुआ था। अभी इस समय हम महाभारत, रामायण सीरियल देख रहे हैं, जिसमें भी महान व्यक्ति भीष्म पितामह, भगवान श्री राम और भगवान श्री कृष्ण ने भी ऐसे कुछ कार्य कथन किए थे, जो सामान्य जनों की नजर में गलत थे। वे सब उन महान व्यक्तियों के कदमों को स्वीकार नहीं कर पा रहें थे, लेकिन इससे उन सबका व्यक्तित्व भी गलत हो गया था, ऐसा नहीं था। क्योंकि जिस कार्य को पूरा करने के लिए वे सब (भगवान सहित) पृथ्वी पर अवतरित हुए थे, उनका बखूबी अंजाम उन्होंने दिया था। इसलिए उनके कुछ समझ में न आने वाले कार्य उनके व्यक्तित्व को महान बनाने में आड़े नहीं आए। ठीक इसी प्रकार भय्यूजी महाराज ने जिन उद्देश्यों के लिए अवतरण लिया था, उसका पूरी तरह से क्रियान्वयन किया। व्यक्तिगत मानवीय कमियां, उनके विशाल कर्म योगी व्यक्तित्व के कार्य करने में आड़े नहीं आई। इस शाश्वत सत्य को तो आपको मानना ही पड़ेगा कि ईश्वर के अतिरिक्त प्रत्येक व्यक्ति या भगवान भी जो मानव के रूप में पृथ्वी पर अवतरित हुऐ है, वह सम्पूर्ण नहीं हो सकता है, उसमें कुछ न कुछ गुण या दोष की कमी अवश्य होगी ही।
अंत में पूज्य गुरु भय्यूजी महाराज की जयंती पर मैं उन्हें सादर नमन करता हूं और श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Popular Posts